धान में जब बालियाँ निकलती है तो उस समय  कई फंगस और कीट रोग लगते है।

इन कीटों और फंगस रोगों की रोकथाम करना आबश्यक होता है।

इन रोगों की रोकथाम आने से पहले ही ये कर लेनी चाहिए।

इनकी रोकथाम के लिए पाइमेट्रोज़िन 50% (chess) 120g एवं एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 18.2% + डिफ़ेनोकोनाज़ोल 11.4% (amistar top) २००ml प्रति एकड़ स्प्रे करें।

या फिर डिनोटेफुरान 20% (osheen) 100g एवं एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 11% + टेबुकोनाज़ोल 18.3%(kustodia) २5०ml प्रति एकड़ स्प्रे करें।

या फिर ट्राइफ्यूमेज़ोप्रिम 10% (opexalon) 100ml  एवं टेबुकोनाज़ोल 50% + ट्राइफ्लोक्सीस्ट्रोबिन 25% (nativo) 100g प्रति एकड़ स्प्रे करें।

अगर आप इन तीनो में से कोई भी स्प्रे कर लेते हो तो आपकी धान की फसल में कोई रोग अथबा कीट नहीं लगेगा।